आज है नवरात्र का छठा दिन, मां कात्यायनी का दिन, पूजन देता है मनपंसद जीवनसाथी

https://www.happynewyearsms.us/

क्यों कहते हैं कात्यायनी माँ का नाम कात्यायनी कैसे पड़ा इसकी भी एक कथा है- कत नामक एक प्रसिद्ध महर्षि थे। उनके पुत्र ऋषि कात्य हुए। इन्हीं कात्य के गोत्र में विश्वप्रसिद्ध महर्षि कात्यायन उत्पन्न हुए थे। इन्होंने भगवती की उपासना करते हुए बहुत वर्षों तक बड़ी कठिन तपस्या की थी। उनकी इच्छा थी माँ भगवती उनके घर पुत्री के रूप में जन्म लें। माँ भगवती ने उनकी यह प्रार्थना स्वीकार कर ली। जिसके बाद से मां का नाम कात्यायनी पड़ा। कहते हैं मां अपने भक्तों को कभी भी निराश नहीं करती हैं। मां का यह रूप बेहद सरस, सौम्य और मोहक है। नवरात्र के दिनों में मां की सच्चे मन से पूजा की जानी चाहिए। लोग घट स्थापित करके मां की उपासना करते हैं जिसे खुश होकर मां कभी भी अपने बच्चों को निराश नहीं करती है।

सभी भक्त माँ की पूजा पूरी निष्ठा और ह्रदय से कर माँ का आशीर्वाद प्राप्त कर सकतें हैं। माँ का यह स्वरुप और उनकी ममता अपार है माँ बस पलक झपकते अपने भक्त के सारे रोग ,दोष ,दुख को हर लेती है। दुर्गा पूजा के छठे दिन भी सर्वप्रथम कलश और उसमें उपस्थित देवी देवता की पूजा करें फिर माता के परिवार में शामिल देवी देवता की पूजा करें जो देवी की प्रतिमा के दोनों तरफ विरजामन हैं। इनकी पूजा के पश्चात माँ कात्यायनी जी की पूजा कि जाती है। पूजा की विधि शुरू करने पर हाथों में फूल लेकर देवी को प्रणाम कर देवी के मंत्र का ध्यान किया जाता है।

READ  धनतेरस के दिन एन 12 चीजों को खरीदने से भाग्य 15 हजार गुना प्रबल होगा

قالب وردپرس

, , , , , , , , , , ,

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *